गौडियम केयर आईवीएफ बांझपन दूर करने में होगा कारगर: डॉ विनिता सिंह

पटना: ‘हाल के दौर में बांझपन की दर तेजी से बढ़ रही है। इसका मुख्‍य कारण ल‍ड़कियों की कम उम्र में शादी, प्रदूषण, स्‍ट्रेस एंड स्‍ट्रेन है। हालांकि पटना में आईवीएफ सेंटर्स हैं, मगर उसके अपेक्षा बांझपन की दर काफी बढ़ रही है। इसी को ध्‍यान में रखते हुए पटना में गौडियम केयर आईवीएफ का सेंटर स्‍थापित किया गया है।‘ ऐसा कहना है चर्चित स्‍त्री रोग विशेषज्ञ डॉ विनिता सिंह का।

आज पटना के मथुरा रोड, कदमकुआं स्थित अपने केयर नर्सिंग होम में आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए डॉ विनिता सिंह ने कहा कि बिहार में बांझपन की समस्‍या तेजी से बढ रही है। इस समस्‍या के समाधन के लिए उन्‍होंने रेनॉड इनफर्टिलिटी और आईवीएफ स्‍पेशियलिस्‍ट डॉ मनिका खन्‍ना के साथ मिलकर पटना में एक गौडियम केयर आइवीएफ सेंटर की स्‍थापना की, जो विश्‍वभर में भारत की पहली अस्‍पातल श्रृंखला है। श्रीमति सिंह ने बताया कि बिहार बॉग्‍स्‍कॉन सोसाइटी के कांफ्रेंस में हिस्‍सा लेने आईं डॉ खन्‍ना ने बताया था कि बड़ी संख्‍या में बांझपन की समस्‍या से जूझ रहे नि:संतान दंपत्ति उनसे दिल्‍ली में संपर्क करते हैं। इसलिए उनकी सोच थी कि क्‍यों ना बिहार में भी इसका एक सेंटर स्‍थापित किया जाए।

डॉ सिंह ने कहा कि कांफ्रेंस के दौरान ही डॉ खन्‍न ने गौडियम केयर आईवीएफ की स्‍थापना इस्‍ट जोन खास कर बिहार में करने की इच्‍छा जाहिर की और हमारे सेंटर से संपर्क किया। फिर हमने मिलकर गौडियम केयर आईवीएफ पटना में शुरू की। इससे उनलोगों की कई परेशानियां कम होगी, जो दिल्‍ली जाकर इलाज कराने में होती थी। उन्‍होंने कहा कि गौडियम केयर आईवीएफ में पहला फ्री चेक कैंप चार फरवरी 2017 को आयोजित किया जा रहा है, जिसमें डॉ मनिका खन्‍न अपनी एक्‍सपर्ट टीम के साथ शामिल होंगी। इस दौरान आईवीएफ के सारे प्रोसीजर में खुद डॉ खन्‍ना शामिल होंगी।

डॉ सिंह ने कहा कि हमारी कोशिश है इस आईवीएफ सेंटर की सक्‍सेस रेट बढ़े और लोगों को आसानी से सारी सुविधाएं मिल सकें। उन्‍होंने बताया कि गरीब तबके के लोगों को भी सुविधाएं मुहैया कराने की हमारी कोशिश है। डॉ सिन्‍हा ने गौडियम केयर आईवीएफ की सुविधाओं पर चर्चा करते हुए कहा कि आईयूआई, आईवीएफ, आईसीसीआई, एम्‍ब्रयो और ऐग फिजिंग, हाई रिस्‍क प्रेगनेंसी और नॉमर्ल प्रेगनेंसी, सपोर्ट काउंसिलिंग जैसी कई अत्‍याधुनिक सुविधाएं इस सेंटर पर मिलेगी।

Print Friendly, PDF & Email

Comments are closed.